Tuesday, May 1, 2012

उदयपुर केन्द्रीय कारागृह में अलसी पर सेमीनार

उदयपुर केन्द्रीय कारागृह में अलसी पर सेमीनार 




उदयपुर के केन्द्रीय कारागृह में नियमित आर्ट ऑफ लिविंग द्वारा योग और सुदर्शन क्रिया सिखाई जाती है। और इसी कड़ी में हाल ही वहाँ अलसी चेतना द्वारा अलसी पर सेमीनार आयोजित किया गया और अलसी के चमत्कारों पर चर्चा के साथ कैदियों और जेल प्रशासन को यह बतलाया गया कि अलसी के नियमित प्रयोग से व्यक्ति के स्वभाव में कोमलता, शीतलता, दया, स्नेह जैसे गुण आ जाते हैं और अपराधिक गतिविधियों से व्यक्ति दूर होता चला जाता है।  इस तरह की शोध कई जेलों में हुई है और बहुत अच्छे परिणाम मिले हैं।  प्रशासन ने हमें भी आश्वासन दिया है कि शीघ्र ही कैदियों को अलसी खिलाने की व्यवस्था की जायेगी। यह कार्यक्रम उदयपुर संभाग के श्री जयंती जैन एडीशनल कमिश्नर सेल टेक्स (जो अलसी चेतना यात्रा के अध्यक्ष, उदयपुर संभाग भी हैं)  और आर्ट ऑफ लिविंग के प्रयासों का  प्रतिफल है। मैं उनका आभार व्यक्त करता हूँ।  श्री जयंती जैन ने उठो जागो जैसी कई पुस्तकों के लेखन भी किया है। 



No comments:

अल्फा लिनोलेनिक एसिड (ALA) की क्वांटम साइंस

अल्फा लिनोलेनिक एसिड ( ALA ) की क्वांटम साइंस  यह एक ओमेगा-3 फैट है क्योंकि इसमें पहला डबल बांड ओमेगा कार्बन से तीसरे कार्बन के ब...