Sunday, May 17, 2015

Flax Bread


नील खुब्ज़ (अलसी की ब्रेड)
आवश्यक सामग्री
मैदा - 340 ग्राम
पिसी हुई अलसी – 60 ग्राम
घी या तेल - 1 टेबल स्पून
नमक - आधा छोटी चम्मच
कलौंजी – आधी छोटी चम्मच
चीनी – 1 टेबल स्पून
दूध - आधा ग्लास
ताजा ईस्ट – लगभग 40 ग्राम या कम
विधि -
दूध को गुनगुना गरम कीजिये। ईस्ट, नमक और चीनी गुनगुने गरम दूध में डाल कर अच्छी तरह मिलाइये और
ढककर 5-10 मिनिट के लिये रख दीजिये। थोड़ी देर में झाग उठेंगे और ईस्ट तैयार हो जायेगा। मैदा और नमक को किसी बर्तन में छानिये, घी डालकर अच्छी तरह मिला लीजिये। मैदा में ईस्ट वाला दूध डाल कर आटा लगाइये। आवश्यकतानुसार पानी डालिये और नरम आटा गूंथिये। आटे को 8-10 मिनिट तक अलट पलट कर, मसल कर एक दम चिकना कर लीजिये। आटे को तब तक गूंथते रहिये जब तक कि आटा हाथ में चिपकना बन्द कर दे। फिर किसी गहरे बर्तन में आटे को तेल से चिकना करके रखिये। बर्तन को गरम जगह पर मोटे टावल से ढककर रख दीजिये।
एक डेढ़ घंटे में आटा फूल कर लगभग दुगना हो जाता है। आटे को हाथ से मसल कर ठीक कर लीजिये। आटे को 8 बराबर भागों में तोड़कर गोले बना लीजिये। एक साफ कपड़े को पानी में गीला करके निचोड़ कर किचन की पट्टी पर बिछा लीजिये। हाथों में सूखी मैदा लगा कर हर गोले की छोटी-छोटी रोटियां बना कर गीले कपड़े पर रखते जाइये। इन्हें किसी साफ और नम कपड़े से ढक दीजिये। 1 घंटे तक इन्हें ऐसे ही रहने दीजिये। 
इन्हें बेक करने से पहले ओवन को 2000 से.ग्रे. पर 40-45 मिनट तक गर्म कीजिये। फिर रोटियों को ओवन में हल्की ब्राउन होने तक बेक कर लीजिये। बेक होने में लगभग 40 मिनट लगते हैं। आप इसे बाटी बनाने के गैस ओवन में भी बेक कर सकते हैं। समय समाप्त होने के बाद ब्रेड को चैक कीजिये, यदि पाव के ऊपर ब्राउन क्रस्ट बन गया है तो ये पाव बन चुके हैं। ब्रेड के ऊपर मक्खन लगाकर चिकना कर दीजिये ताकि इसका क्रस्ट एकदम ताजा और मुलायम बना रहे। इन्हें आप मक्खन लगाकर या जैम लगाकर परोसिये। 

Saturday, May 16, 2015

White Mulberry


White Mulberry 


   इन दिनों व्हाइट मलबरी (Morus alba) या सफेद शहतूत की चाय डायबिटीज में बहुत चमत्कारी मानी जा रही
है। इसकी पत्तियों में कई महत्वपूर्ण पोषक तत्व, विटामिन और खनिज जैसे बीटा-केरोटीन, गाबा-1, अमाइनो एसिड्स, क्लोरोफिल, विटामिन सी, बी-1, बी-2, बी-6, ए और फाइबर होते हैं। 

   इसकी पत्तियों में ग्रीन टी से 6 गुना, दूध से 25 गुना और बंदगोभी से 40 गुना कैल्सियम होता है तथा ग्रीन टी से ढाई गुना और पालक से 10 गुना आयरन होता है। 100 ग्राम मलबरी की सूखी पत्तियों में 230 मिलिग्राम गामा अमाइनो एसिड (जो ब्लड प्रेशर कम करता है) और 46 ग्राम इटोस्टेरोल होता है जो कॉलेस्टेरोल कम करता है। इसमें उत्कृष्ट एंटीऑक्सीडेंट सवेराट्रोल (जो अंगूर में पाया जाता है), एंथोसायनिन, फ्लेवोनॉयड, ल्यूटिन, जियाजेंथिन, बी केरोटीन और ए केरोटीन पर्याप्त मात्रा में होते हैं। 

मलबेरी के फायदे
  • डायबिटीज - चाइनीज मेडीसिन में मलबेरी डायबिटीज की अहम दवा मानी गई है। इसमें डी एन जे (1-Deoxynojirimycin) नामक तत्व होता है, जो कार्बोहाइड्रेट को पचाने वाले अल्फा-ग्लूकोसाइडेज को निष्क्रिय करता है। जिससे स्टार्च और कार्ब का पाचन धीमा पड़ जाता है और खाने के बाद ब्लड शुगर एक दम से नहीं बढ़ती। यह तत्व सिर्फ शहतूत में ही होता है। डी एन जे की संरचना ग्लूकोज से हू बहू मिलती है, बस इसके अणु में ऑक्सीजन की जगह नाइट्रोजन होती है। जब हम डाइसेकेराइड शर्करा का सेवन करते हैं तो उसका तुरंत विघटन हो कर ग्लूकोज में परिवर्तित होने लगती है। लेकिन यदि हम DNJ का सेवन करते हैं तो ग्लूकोज की जगह DNJ का अवशोषण होने लगता है क्योंकि यह ग्लूकोज से बिलकुल मिलती जुलती होती है। और ग्लूकोज आंत में ही रह जाती है और बिना पचे मल के साथ विसर्जित हो जाती है।
  • यह इम्युनिटी बढ़ाती है और कैंसर में फायदा पहुँचाती है। 
  • रक्त, लीवर और किडनी का शोधन करती है। 
  • कॉलेस्टेरोल कम करती है और हृदय के लिए हितकारी है। 
  • त्वचा का नवेला रखती है और रंग रूप में निखार लाती है। 
  • केश घने और काले बने रहते हैं। 
मात्रा

   डायबिटीज में 2.5-5.0 ग्राम मलबेरी की सूखी पत्तियों की चाय दिन में तीन बार भोजन के पहले पीना चाहिये। इस मात्रा में हमे 9-18 मिलिग्राम DNJ मिल जाता है। मलबेरी शुरू करें तो शुरू के 15 दिन अपनी ब्लड शुगर पर पूरी निगरानी रखें। 

यदि यह चाय प्राप्त नहीं हो सके तो निम्न फोन पर सीधे हमसे संपर्क करें। 

Dr. O.P.Verma
M.B.B.S., M.R.S.H.(London)
7-B-43, Mahaveer Nagar III, Kota Raj. 
http://flaxindia.blogspot.in
Email- dropvermaji@gmail.com
+919460816360


अल्फा लिनोलेनिक एसिड (ALA) की क्वांटम साइंस

अल्फा लिनोलेनिक एसिड ( ALA ) की क्वांटम साइंस  यह एक ओमेगा-3 फैट है क्योंकि इसमें पहला डबल बांड ओमेगा कार्बन से तीसरे कार्बन के ब...