Monday, June 22, 2015

डायबिटीज से हो जा फ्री, मलबरी पी बिंदास जी...


डायबिटीज से हो जा फ्री, मलबरी पी बिंदास जी...

आदरणीय डॉक्टर साहब,
गत 15 दिनों से मलबेरी की चाय 3 बार पीने से मुझे निम्नलिखित फायदे हो रहे हैं।
1. शरीर की त्वचा पर खुरदुरापन था जो कि अब दूर हो रहा है एव त्वचा नरम हो रही है।
2. शुगर लेवल कम हो रहा है
3. मैं इन्सुलिन लेती थी अब उसकी मात्रा में कमी हो गई है।
4. बालो में भी चमक आ रही है।
5. शुगर के कारण शरीर में अस्वस्थता लगती थी जो अब कम हो गई है।
यह चाय अधिक से अधिक शुगर रोगी ले और मेरी तरह जल्दी स्वस्थ हों यही आशा है।
डॉक्टर साहब आपका बहुत बहुत धन्यवाद।
प्रार्थी,
स्नेहा अनवेकर तथा एस एन अनवेकर
रतलाम/इंदौर 

हमारे पास मिलेगी
Deposit Rs. 600/- for a box of Mulberry Tea in
Dr. O.P.Verma A/C No. 10927247205 State Bank Of India, Chhawani Chouraha LIC Building, Kota Raj. 324007. IFSC Code SBIN0001534

3 comments:

Shri Sitaram Rasoi said...

White Mulberry 
डायबिटीज से होगा फ्री
मलबरी पी और बिंदास जी

   इन दिनों व्हाइट मलबरी (Morus alba) या सफेद शहतूत की चाय डायबिटीज में बहुत चमत्कारी मानी जा रही है। इसकी पत्तियों में कई महत्वपूर्ण पोषक तत्व, विटामिन और खनिज जैसे बीटा-केरोटीन, गाबा-1, अमाइनो एसिड्स, क्लोरोफिल, विटामिन सी, बी-1, बी-2, बी-6, ए और फाइबर होते हैं। 

   इसकी पत्तियों में ग्रीन टी से 6 गुना, दूध से 25 गुना और बंदगोभी से 40 गुना कैल्सियम होता है तथा ग्रीन टी से ढाई गुना और पालक से 10 गुना आयरन होता है। 100 ग्राम मलबरी की सूखी पत्तियों में 230 मिलिग्राम गामा अमाइनो एसिड (जो ब्लड प्रेशर कम करता है) और 46 ग्राम इटोस्टेरोल होता है जो कॉलेस्टेरोल कम करता है। इसमें उत्कृष्ट एंटीऑक्सीडेंट सवेराट्रोल (जो अंगूर में पाया जाता है), एंथोसायनिन, फ्लेवोनॉयड, ल्यूटिन, जियाजेंथिन, बी केरोटीन और ए केरोटीन पर्याप्त मात्रा में होते हैं। 

मलबेरी के फायदे 
डायबिटीज - चाइनीज मेडीसिन में मलबेरी डायबिटीज की अहम दवा मानी गई है। इसमें डी एन जे (1-Deoxynojirimycin) नामक तत्व होता है, जो कार्बोहाइड्रेट को पचाने वाले अल्फा-ग्लूकोसाइडेज को निष्क्रिय करता है। जिससे स्टार्च और कार्ब का पाचन धीमा पड़ जाता है और खाने के बाद ब्लड शुगर एक दम से नहीं बढ़ती। यह तत्व सिर्फ शहतूत में ही होता है। डी एन जे की संरचना ग्लूकोज से हू बहू मिलती है, बस इसके अणु में ऑक्सीजन की जगह नाइट्रोजन होती है। जब हम डाइसेकेराइड शर्करा का सेवन करते हैं तो उसका तुरंत विघटन हो कर ग्लूकोज में परिवर्तित होने लगती है। लेकिन यदि हम DNJ का सेवन करते हैं तो ग्लूकोज की जगह DNJ का अवशोषण होने लगता है क्योंकि यह ग्लूकोज से बिलकुल मिलती जुलती होती है। और ग्लूकोज आंत में ही रह जाती है और बिना पचे मल के साथ विसर्जित हो जाती है।यह इम्युनिटी बढ़ाती है और कैंसर में फायदा पहुँचाती है। रक्त, लीवर और किडनी का शोधन करती है। कॉलेस्टेरोल कम करती है और हृदय के लिए हितकारी है। त्वचा का नवेला रखती है और रंग रूप में निखार लाती है। केश घने और काले बने रहते हैं। मात्रा 

   डायबिटीज में 2.5-5.0 ग्राम मलबेरी की सूखी पत्तियों की चाय दिन में तीन बार भोजन के पहले पीना चाहिये। इस मात्रा में हमे 9-18 मिलिग्राम DNJ मिल जाता है। मलबेरी शुरू करें तो शुरू के 15 दिन अपनी ब्लड शुगर पर पूरी निगरानी रखें। 


Dr. O.P.Verma
M.B.B.S., M.R.S.H.(London)
7-B-43, Mahaveer Nagar III, Kota Raj. 
http://flaxindia.blogspot.in
Email- dropvermaji@gmail.com
+919460816360

Shri Sitaram Rasoi said...

White Mulberry 
डायबिटीज से होगा फ्री
मलबरी पी और बिंदास जी

   इन दिनों व्हाइट मलबरी (Morus alba) या सफेद शहतूत की चाय डायबिटीज में बहुत चमत्कारी मानी जा रही है। इसकी पत्तियों में कई महत्वपूर्ण पोषक तत्व, विटामिन और खनिज जैसे बीटा-केरोटीन, गाबा-1, अमाइनो एसिड्स, क्लोरोफिल, विटामिन सी, बी-1, बी-2, बी-6, ए और फाइबर होते हैं। 

   इसकी पत्तियों में ग्रीन टी से 6 गुना, दूध से 25 गुना और बंदगोभी से 40 गुना कैल्सियम होता है तथा ग्रीन टी से ढाई गुना और पालक से 10 गुना आयरन होता है। 100 ग्राम मलबरी की सूखी पत्तियों में 230 मिलिग्राम गामा अमाइनो एसिड (जो ब्लड प्रेशर कम करता है) और 46 ग्राम इटोस्टेरोल होता है जो कॉलेस्टेरोल कम करता है। इसमें उत्कृष्ट एंटीऑक्सीडेंट सवेराट्रोल (जो अंगूर में पाया जाता है), एंथोसायनिन, फ्लेवोनॉयड, ल्यूटिन, जियाजेंथिन, बी केरोटीन और ए केरोटीन पर्याप्त मात्रा में होते हैं। 

मलबेरी के फायदे 
डायबिटीज - चाइनीज मेडीसिन में मलबेरी डायबिटीज की अहम दवा मानी गई है। इसमें डी एन जे (1-Deoxynojirimycin) नामक तत्व होता है, जो कार्बोहाइड्रेट को पचाने वाले अल्फा-ग्लूकोसाइडेज को निष्क्रिय करता है। जिससे स्टार्च और कार्ब का पाचन धीमा पड़ जाता है और खाने के बाद ब्लड शुगर एक दम से नहीं बढ़ती। यह तत्व सिर्फ शहतूत में ही होता है। डी एन जे की संरचना ग्लूकोज से हू बहू मिलती है, बस इसके अणु में ऑक्सीजन की जगह नाइट्रोजन होती है। जब हम डाइसेकेराइड शर्करा का सेवन करते हैं तो उसका तुरंत विघटन हो कर ग्लूकोज में परिवर्तित होने लगती है। लेकिन यदि हम DNJ का सेवन करते हैं तो ग्लूकोज की जगह DNJ का अवशोषण होने लगता है क्योंकि यह ग्लूकोज से बिलकुल मिलती जुलती होती है। और ग्लूकोज आंत में ही रह जाती है और बिना पचे मल के साथ विसर्जित हो जाती है।यह इम्युनिटी बढ़ाती है और कैंसर में फायदा पहुँचाती है। रक्त, लीवर और किडनी का शोधन करती है। कॉलेस्टेरोल कम करती है और हृदय के लिए हितकारी है। त्वचा का नवेला रखती है और रंग रूप में निखार लाती है। केश घने और काले बने रहते हैं। मात्रा 

   डायबिटीज में 2.5-5.0 ग्राम मलबेरी की सूखी पत्तियों की चाय दिन में तीन बार भोजन के पहले पीना चाहिये। इस मात्रा में हमे 9-18 मिलिग्राम DNJ मिल जाता है। मलबेरी शुरू करें तो शुरू के 15 दिन अपनी ब्लड शुगर पर पूरी निगरानी रखें। 


Dr. O.P.Verma
M.B.B.S., M.R.S.H.(London)
7-B-43, Mahaveer Nagar III, Kota Raj. 
http://flaxindia.blogspot.in
Email- dropvermaji@gmail.com
+919460816360

Shri Sitaram Rasoi said...

Cotact us for Mulberry Tea