Sunday, January 22, 2012

बडविग-चिकित्सा शोध यात्रा


 बडविग-चिकित्सा शोध यात्रा

सागर –

भोपाल शहर
इस यात्रा का मुख्य उद्देश्य सागर के भाग्योदय तीर्थ संस्थान के में कैंसर रोगियों के लिए नि:शुल्क शिविर आयोजन हेतु तैयारी एवम् बातचीत करना था। देश-विदेश में विख्यात यह संस्था मानवता की सेवा में सदैव तत्पर रहता है और गरीब तथा विकलांग लोगों को सहायता और चिकित्सा नि:शुल्क उपलब्ध करवाने के लिए हर संभव प्रयत्न करता है। छोटे-छोटे गाँव में जा कर शिविर लगाता है, यहाँ एलौपैथी, होम्योपैथी, प्राकृतिक चिकित्सा, आयुर्वेद आदि सभी तरह का उपचार रोगियों को मिलता है। यहाँ के चिकित्सक पूरी सेवा भावना से रोगियों का उपचार करते हैं। सागर के चित्र अलग लेख में दिये गये हैं।

एयर इन्डिया ए.आई. 633

भाग्योदय के संचालको से बातचीत करने के बाद मैं जबलपुर से आये श्री अनिल दुआ से बडविग चिकित्सा के बारे में बातचीत की और ठाकुर कृष्णपाल सिंह जी के यहाँ एक छोटी सी वर्कशॉप आयोजित की और कुछ रोगियों को परामर्श भी दिया। शाम को मेरी भतीजी सौभाग्यकांक्षी शैफाली ठाकुर के विवाह में शामिल हुआ और रात को टैक्सी से भोपाल के लिए रवाना हुआ।       
भोपाल –
इन्दिरा गाँधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट
16-1-2012 को सुबह 4:00 बजे मैं भोपाल पहुँचा, भोपाल श्री मनोहर लालवनी जी घर पर बडविग कैंसर-चिकित्सा  पर व्यापक चर्चा की। उनके कुछ मित्र व रिश्तेदार भी वहां उपस्थित  थे, एक ब्रेन ट्यूमर का रोगी भी वहां उपस्थित था।
दिल्ली मेट्रो

बडविग शोध यात्रा पहुँची दिल्ली –
लालवानी जी ने मुझे एयरपोर्ट छोडा और में विमान द्वारा दिन के 11:30 बजे दिल्ली पहुँचा। मैं एयरपोर्ट से सीधा एक वी.आई.पी कैंसर रोगी को देखने नोयडा पहुँचा, वहां रोगी और उसके परिजनों से बडविग चिकित्सा  पर चर्चा की। 

अक्षरधाम मंदिर
   
इसके बाद दिल्ली में एक परिचित के घर पर आयोजित बडविग  चिकित्सा केन्द्र पर एक गोष्टी को सम्बोधित किया और शाम को मेवाड एक्सप्रेस से कोटा के लिए रवाना हो गया।  
भारत-द्वार

No comments: