Sunday, March 6, 2011

Bitterness of Sugar



ज्यादा चीनी खाने से शरीर के चयापचय का सन्तुलन बिगड़ने के अलावा शरीर को भारी क्षति पहुँचती है। चीनी के ये कुप्रभाव मैंने विभिन्न मेडीकल जरनल और अनुसन्धान प्रपत्रों से एकत्रित किये हैं। हैं।  इन्हें पढ़ कर मेरे लिए चीनी की सारी मिठास कड़वाहट में बदल गई है।



1- चीनी हमारे शरीर की रक्षा-प्रणाली को कमजोर बनाती है और रोगों से लड़ने की क्षमता कम करती है।

2- चीनी रक्त में ऐडरिनेलीन का स्तर बढ़ाती है, उत्तेजना तथा तनाव बढ़ाती है, एकाग्रता कम करती है और बच्चों को जिद्दी बनाती है।

3- चीनी रक्त में कुल कॉलेस्ट्रोल, ट्राइग्लीसराइड, बुरे कॉलेस्ट्रोल के स्तर को बढ़ाती है और अच्छे कॉलेस्ट्रोल को कम करती है।

4- यह उतकों का लचीलापन और कार्यशीलता कम करती है।

5- चीनी कैंसर कोशिकाओं को पोषण देती है और स्तन, डिम्बाशय, प्रोस्टेट, गुदा, अग्न्याशय, पित्त-वाहिकाओं, पित्ताशय, फेफड़े, आमाशय आदि अंगों के कैंसर का प्रमुख कारण है।

6- चीनी रक्त के उपवास शर्करा के स्तर को बढ़ाती है जो इन्सुलिन के माध्यम से रक्त में चीनी का स्तर कम कर सकती है।

7- चीनी आपकी दृष्टि को कमजोर करती है।

8- चीनी पाचनतंत्र से संबन्धी कई रोग जैसे अपच, अम्लता, क्रोन्स डिज़ीज, अल्सरेटिव कोलाइटिस आदि का एक महत्वपूर्ण कारण है।

9- चीनी आपके शरीर को समय पूर्व ही प्रौढ़ या जीर्ण बनाती है।

10- चीनी के अधिक सेवन से शराब पीने की लत लगने की संभावना अधिक रहती है।

11- चीनी से मुँह की लार की अम्लता बढ़ती है, दाँत सड़ने लगते हैं और दाँतों में कई रोग हो जाते हैं।

12- चीनी खाने से कई ऑटोइम्यून रोग जैसे आर्थ्राइटिस, अस्थमा या मल्टीपल स्क्लिरोसिस होने की संभावना बढ़ जाती है।

13- चीनी खाने से मोटापा बढ़ता है।

14- चीनी खाने से फँगस (केन्डिडा ऐल्बीकेन्स) का संक्रमण तेजी से बढ़ता है।

15- चीनी खाने से पित्ताशय में पथरी होने की सम्भावना ज्यादा रहती है।

16- चीनी के सेवन से ऐपेन्डिसाइटिस होने की सम्भावना ज्यादा रहती है।

17- चीनी खाने से पाइल्स हो जाते हैं।

18- चीनी के सेवन से वेरीकोस वेन्स की सम्भावना रहती है।

19- चीनी के सेवन से गर्भनिरोधक गोलियाँ खाने वाली स्त्रियों में रक्त-शर्करा और इन्सुलिन प्रतिशोध बढ़ सकता है।

20- चीनी खाने से ओस्टियोपोरोसिस होने का जोखिम रहता है।

21- चीनी शरीर में विटामिन-ई की मात्रा कम करती है।

22- चीनी इन्सुलिन की संवेदनशीलता कम करती है, जिसके फलस्वरूप पहले इन्सुलिन का स्राव बढ़ता है फिर बाद में इन्सुलिन प्रतिशोध और अंत में डायबिटीज हो जाती है।

23- चीनी आपका प्रंकुचन (सिस्टोलिक) रक्तचाप बढ़ाती है।

24- चीनी खाने से सुस्ती आती है और बच्चे की सक्रियता भी कम हो जाती है।

25- ज्यादा चीनी खाने से प्रोटीन का ग्लाइकेशन (शर्करा का प्रोटीन के अणुओं से क्रिया करना) बढ़ जाता है और प्रोटीन क्षतिग्रस्त हो जाते है।

26- चीनी आँतों में प्रोटीन का अवशोषण अवरुद्ध करते है।

27- चीनी खाने से कई खाद्यपदार्थों से ऐलर्जी हो जाती है।

28- गर्भावस्था में कई बार ज्यादा चीनी खाने से टोक्सीमिया हो जाता है।

29- चीनी खाने से ऐग्जीमा भी हो सकता है।

30- चीनी सेवन से ऐथेरोस्क्लिरोसिस और हृदयरोग हो सकता है।

31- चीनी मनुष्य के डी.एन.ए. की संरचना को विकृत कर सकती है।

32- चीनी प्रोटीन की संरचना में बदलाव कर सकती है जिसके कारण प्रोटीन का शरीर में व्यवहार असामान्य हो सकता है।

33- चीनी कॉलेजन को भी क्षतिग्रस्त करती है जिससे त्वचा जीर्ण और वृद्ध सी लगने लगती है।

34- चीनी से मोतियाबिन्द और निकट दृष्टिदोष (मायोपिया) की संभावना बढ़ जाती है।

35- चीनी खाने से फेफड़ों में ऐम्फीसीमा रोग हो सकता है।

36- चीनी ऐन्जाइम्स की कार्यशीलता को कम करती हैं।

37- चीनी का ज्यादा सेवन पार्किन्सन रोग की संभावना बढ़ाती है।

38- चीनी खाने से यकृत का आकार बढ़ता है और यकृत में वसा का जमाव भी बढ़ता है।

39- चीनी खाने से वृक्क या गुर्दे भी बड़े हो जाते हैं और पथरी बनने की संभावना ज्यादा प्रबल रहती है।

40- चीनी अग्न्याशय को क्षतिग्रस्त करती है।

41- चीनी शरीर में पानी का जमाव बढ़ाती है यानी सूजन पैदा करती है।

42- चीनी आँतो में होने वाली हलचल या गतिविधि की दुष्मन नम्बर एक है।

43- चीनी रक्तवाहिकाओं की आंतरिक सतह को क्षतिग्रस्त करती है।

44- चीनी टेन्डन को कमजोर करते है।

45- चीनी सरदर्द या माइग्रेन का एक कारण है।

46- चीनी बच्चों की शैक्षणिक क्षमता कम करती है और वे परीक्षा में कम अंक लाते हैं।

47- चीनी खाने से मस्तिष्क की डेल्टा, अल्फा और थीटा तरंगें तेज हो जाती हैं जिससे वैचारिक क्षमता कम होती है।

48- चीनी खाने से डिप्रेशन हो जाता है।

49- चीनी के सेवन से गाउट होने का जोखिम रहता है।

50- चीनी के सेवन से ऐल्जीमर रोग होने का जोखिम बढ़ जाता है।

51- चीनी खाने से कई हार्मोन्स का संतुलन भी गड़बड़ा जाता है जैसे पुरुषों में इस्ट्रोजन की मात्रा बढ़ जाना, ग्रोथ हार्मोन का स्राव कम होना या स्त्रियों में प्रिमेन्स्ट्रुअल सिन्ड्रोम होना।

52- चीनी खाने से चक्कर आ सकते हैं।

53- चीनी ज्यादा खाने से शरीर में मुक्तकण (free radicles) बढ़ जाते हैं।

54- चीनी शराब की तरह ही एक नशीला पदार्थ है।

55- चीनी खाने की लत मुश्किल से छूटती है।

56- पेरीफ्रल वेस्कुलर रोग में चीनी प्लेटलेट्स का चिपचिपापन बढ़ाती है।

57- चीनी ज्यादा खाने से युवा गर्भवती स्त्रियों में गर्भकाल छोटा होने की संभावना रहती है जिससे शिशु का वजन भी कम होता है।

58- चीनी मानसिक असंतुलन बढ़ाती है।

59- चीनी खाने से मोटे लोगों की भूख बढ़ती है।

60- चीनी ए.डी.एच.डी. से ग्रस्त बच्चों में लक्षणों को तेज करती है।

61- चीनी मूत्र में विसर्जित इलेक्ट्रोलाइट्स को बुरी तरह प्रभावित करती है।

62- चीनी ऐडरीनल ग्रंथि की गतिविधि को कम करती है।

63- चीनी शरीर की विभिन्न चयापचय क्रियाओं को प्रभावित करती है और जीर्ण अपकर्षक रोग (Chronic Degenerative Diseases) की संभावना कम करती है।

64- इन्ट्रावीनस ग्लूकोज चढ़ाने से मस्तिष्क में ऑक्सीजन की मात्रा कम होती है।

65- चीनी खाने से पोलियो होने का जोखिम बढ़ता है।

66- चीनी के सेवन से मिर्गी (एपीलेप्सी) हो सकती है।

67- चीनी खाने से मोटे लोगों में उच्त रक्तचाप रोग हो जाता है।

68- आइ.सी.यू. में भर्ती रोगियों को    चढ़ाई जाने वाले चीनी के घोल की मात्रा कम देना कई बार जीवनदायक साबित होता है।

69- अधिक चीनी हमारी कोशिकाओं को मार सकती है।

70- कुछ पुनरुद्धार शिविरों में कैद किशोरों पर अनुसंधान किये गये जिसमें उन्हें कम चीनी वाला भोजन दिया गया तो उनके समाजद्रोही व्यवहार में 44% गिरावट देखी गई।

71- चीनी नवजात शिशुओं में निर्जलीकरण (डीहाइड्रेशन) करती है।

72- चीनी मसूड़े़ को रुग्ण करती है।

73- चीनी शरीर में खनिज लवणों का संतुलन बिगाड़ देती है जिससे क्रोमियम तथा तांबे की कमी हो जाती है और केल्शियम तथा मेग्नीशियम का अवशोषण अवरुद्ध होता है।

74- हमारे शरीर में चीनी स्टार्च की तुलना में 2 से 5 गुना ज्यादा फैट बढ़ाती है।

75- चीनी हमारे शरीर में विभिन्न अंगों की चयापचय क्रियाओं का संतुलन बिगाड़ देती है।



ज्यादा चीनी से शरीर पर होने वाले उपरोक्त कुप्रभावों को पढ़ कर मुझे तो यही लगता है कि......




"सफेद हो या गुड़िया या मिश्री की डलिया,
कुछ   भी   हो   चीनी जहर  की  है  पुड़िया।"

1 comment:

हरीश सिंह said...

आपके ब्लॉग पर आकर अच्छा लगा , आप हमारे ब्लॉग पर भी आयें. यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो "फालोवर" बनकर हमारा उत्साहवर्धन अवश्य करें. साथ ही अपने अमूल्य सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ, ताकि इस मंच को हम नयी दिशा दे सकें. धन्यवाद . हम आपकी प्रतीक्षा करेंगे ....
भारतीय ब्लॉग लेखक मंच
डंके की चोट पर