Sunday, March 6, 2011

Secrets of Success


सफलता के रहस्य 
सामान्यत: लोग यह समझते हैं कि स्मरण शक्ति, बुद्धिमत्ता और शैक्षणिक क्षमता ईश्वर की ही देन है और इनमें वृद्धि की सम्भावना भी नहीं है। लेकिन यह यथार्थ नहीं है, जिस तरह आप शरीर-गठन करने और षट-बन्ध उदर विकसित करने हेतु व्यायाम-शाला जाते हैं, आसन, योग तथा कसरत करते हैं, पौष्टिक आहार लेते हैं और मनचाही बलिष्ट मांसल देह प्राप्त करते हैं, ठीक उसी तरह आप कई तरीकों से जैसे न्यूरोबिक्स (दिमागी कसरत), स्मृति विज्ञान (नेमोनिक्स) या समुचित पोषक तत्वों के सेवन से अपने मस्तिष्क की क्षमताओं में अभूतपूर्व वृद्धि कर सकते हैं। वैसे भी मानव के मस्तिष्क में अपार शक्ति संचित है। कई वैज्ञानिक तो यहां तक कहते हैं कि आज तक मनुष्य ने 7 प्रतिशत से ज्यादा अपने मस्तिष्क का उपयोग किया ही नहीं है।

इसका यह मतलब यह भी हुआ कि हमारे मस्तिष्क में अभी भी ऐसी अनेक शक्तियाँ या रहस्य हैं जिन्हें अभी हमें अभी खोजना है। आजकल वैज्ञानिकों ने मस्तिष्क की क्षमताओं में अपार वृद्धि करने हेतु कई रहस्यमयी तकनीकों और पोषक तत्वों की खोज कर ली है। आज हम इन सारे रहस्यों से चिलमन उठा देंगे, आज हम सारे भेद खोल देंगे। आज आप जान जायेंगे कि मस्तिष्क किस प्रकार काम करता है, किस तरह आप स्वयं को बुद्धिमान, विद्वान और सफल बना सकते हैं तथा कैसे आप अपनी स्मरण शक्ति को चाकू की धार जैसा पैना बना सकते हैं। आज हम आपको यह भी बता देंगे कि कैसे आप हर परीक्षा में अपने सारे प्रतिद्वंदियों को पछाड़ कर सर्वोच्च अंक प्राप्त करेंगे तथा कैसे आप हर परीक्षा के प्रश्न पत्रों को चुटकियों में हल कर लेंगे। आज के बाद कैसे सफलता आपके कदम चूमेगी। आज हम और आप मिल कर आपकी सफलता के लिए नई इबारत लिख देंगे।



आज यहां हम कुछ महान पोषक तत्वों के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगे जिनका सेवन आपकी स्मरण शक्ति, विद्वता, पठन क्षमता, चतुराई, दूरदर्शिता, कल्पनाशीलता, सृजनात्मकता, एकाग्रता, परिपक्वता, निर्णय क्षमता, व्यवहार कुशलता, सहनशीलता, सकारात्मक प्रवृत्ति, मानसिक शांति, बुद्धिमत्ता और शैक्षणिक क्षमता में अभूतपूर्व, असिमित, अविश्वसनीय, अचूक तथा अपार वृद्धि करेगा।


ओमेगा-3 बहु असंतृप्त वसा अम्ल है यानी इनमें एक से ज्यादा द्वि-बंध होते हैं। ओमेगा-3 कार्बन के परमाणुओं की लड़ी या श्रंखला होती है जिसके एक सिरे से, जिसे ओमेगा एण्ड कहते हैं, मिथाइल (CH3) ग्रुप जुड़ा रहता है और दूसरे से, जिसे डेल्टा एण्ड कहते हैं, कार्बोक्सिल (COOH) जुड़ा रहता हैं। इनमें पहला द्वि-बंध कार्बन की लड़ के मिथाइल या ओमेगा सिरे से तीसरे कार्बन के बाद होता है इसीलिए इन्हें ओमेगा-3 वसा अम्ल कहते हैं। हमारे मस्तिष्क का 60% भार वसा होता है और इसका आधा ओमेगा-3 वसा अम्ल डोकोसे-हेक्जानोइक एसिड (DHA) 22:6 n-3 का होता है। दृष्टि पटल का 50% भार डोकोसे-हेक्जानोइक एसिड (DHA) 22:6 n-3 का होता है। इससे आप अनुमान लगा सकते हैं कि ओमेगा-3 वसा अम्ल मस्तिष्क के लिए कितना महत्वपूर्ण है। ओमेगा-3 वसा अम्ल दो प्रकार के होते हैं ।


ओमेगा-3 वसा डी.एच.ए. और मस्तिष्क
अब यह एक स्थापित तथ्य है कि ओमेगा-3 वसा अम्ल डी.एच.ए. मस्तिष्क और (आंखों के) दृष्टि पटल के विकास, संरचना एवं कार्य प्रणाली के लिए अति विशिष्ट, अति आवश्यक व अति महत्वपूर्ण है। मस्तिष्क और आंखों में डी.एच.ए. भारी मात्रा में संचित होता है ताकि मस्तिष्क व नाड़ियों की कार्य प्रणाली एवं दृष्टि की तीक्ष्णता उत्कृष्ट बनी रहे। डी.एच.ए. नाड़ी कोशिकाओं की भित्तियों या झिल्लियों के फोस्फोलिपिड घटक में संचित होकर इन्हें विशिष्ट गुण प्रदान करता है। अनोखी संरचना वाले डी.एच.ए. में 22 कार्बन की एक लड़ होती है जिसमें 6 प्राकृतिक द्वि-बंध होते हैं। इनका विन्यास सिस (cis) होने के कारण जहां भी द्वि-बंध बनता है यह लड़ मुड़ जाती है और इसके अणु को एक विशेष मुड़ी हुई आकृति देते हैं, जैसा हमने चित्र में दिखाया है। डी.एच.ए. की यह विशेष संरचना और  अत्यंत  कम  गलनांक -500 सेल्सियस (यानी शून्य से 500 सेल्सियस कम तापमान पर भी यह तरल रहता है) मस्तिष्क के स्लेटी द्रव्य (ग्रे मेटर) और अन्य सभी नाड़ी कोशिकाओं की झिल्लियों को वांछनीय तरलता प्रदान करती हैं। डी.एच.ए. इसके अलावा इन झिल्लियों को लचीलापन, संपीड़न, पारगम्यता और नियंत्रक प्रोटीन से संवाद व समन्वय भी स्थापित करते हैं। डी.एच.ए. के उपरोक्त महान बुनियादी गुण, अनोखी कार्य प्रणाली और आयन सरिता (ion channels) का नियंत्रण ही नाड़ी तंत्र में तीक्ष्ण स्मृति, तीव्र आयन संकेतन प्रणाली, प्रखर बुद्धि और प्रबल शैक्षणिक क्षमता सुनिश्चित करते हैं।
गर्भावस्था की आखिरी तिमाही से लेकर शिशु की उम्र दो वर्ष होने तक शिशु के मस्तिष्क, आंखों और संपूर्ण नाड़ी तंत्र में डी.एच.ए. का भारी मात्रा में संचयन होता है। लेकिन इसके बाद भी मस्तिष्क, आंखों और संपूर्ण नाड़ी तंत्र के स्निग्ध संचालन हेतु आजीवन डी.एच.ए. की आवश्यकता रहती है। शरीर में सबसे ज्यादा डी.एच.ए. का संचय दृष्टि पटल की बाहरी परत (जिसमें में रोडोप्सिन होता है जो प्रकाश के प्रति संवेदनशील एक रंग द्रव्य है जो प्रकाशीय बिंब का अभिग्रहण करता है) की कोशिकाओं की झिल्लियों के फोस्फोलिपिड घटक में होता है। इसीलिए प्रसव के बाद स्त्री के डी.एच.ए. भण्डार लगभग रिक्त हो जाते हैं, जिनके पुनर्भरण में लगभग 3-4 वर्ष लग सकते हैं।
यदि स्त्रियों को तेजस्वी व तेज तर्रार शिशु की कामना है तो गर्भावस्था में ओमेगा-3 की पर्याप्त आपूर्ति सुनिश्चित करना अति आवश्यक है। नार्वे के वैज्ञानिक डॉ. शिलोट ने यह सिद्ध किया है कि गर्भावस्था में यदि पर्याप्त ओमेगा-3 वसा अम्ल दिये जायें तो जन्म लेने वाला शिशु होनहार, विद्वान और प्रखर बुद्धि वाला होता है। पर्याप्त ओमेगा-3 का सेवन करने वाले लोगों में अवसाद, शीज़ोफ्रेनिया, साइकोसिस आदि रोगों की संभावना बहुत कम होती हैं।
आवश्यक वसा अम्ल ए.एल.ए. का यकृत और अन्य ऊतकों में बीटा ऑक्सीकरण होता है, ऊर्जा उत्पन्न होती है तथा कार्बन डाई-ऑक्साइड, जल व ए.टी.पी. बनता है। ए.एल.ए. का कुछ प्रतिशत दीर्घीकृत तथा असंतृप्तीकृत होकर डी.एच.ए. में परिवर्तित हो जाता है।
ई.पी.ए.
ई.पी.ए. भी ओमेगा-3 वसा अम्ल है जिसमें 20 कार्बन की लड़ होती है तथा 5 प्राकृतिक द्वि-बंध होते हैं। शोधकर्ता बताते हैं कि ई.पी.ए. का नाड़ी तंत्र की संरचना में विशेष योगदान नहीं है परंतु यह मस्तिष्क के रक्त संचार में वृद्धि करते हैं, विशिष्ट प्रोस्टाग्लेंडिन हार्मोन का निर्माण करते हैं जो एक विशिष्ट सूचना-अणु की भांति काम करते हैं और मस्तिष्क में सूचनाओं के संचार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं, मस्तिष्क के कई कार्यों जैसे इन्फ्लेमेशन पर अंकुश रखते हैं और रक्षा प्रणाली को मजबूत रखते हैं। इस तरह ई.पी.ए. मस्तिष्क की कार्य प्रणाली और संदेश संचार के लिए अत्यंत आवश्यक है। शीजोफ्रेनिया रोग के उपचार में भी ई.पी.ए. बहुत महत्वपूर्ण है।
मस्तिष्क को सुचारु और सक्रिय रखने के लिए ओमेगा-6 भी आवश्यक होते हैं। शरीर में ओमेगा-6 और ओमेगा-3 का अनुपात 1:1 होना चाहिए। हमारे आधुनिक आहार में ओमेगा-3 की मात्रा नगण्य होती है और हमारे ज्यादातर तेल, फास्ट फूड, जंक फूड तथा दुग्ध उत्पाद ओमेगा-6 से भरपूर होते हैं अत: हम ओमेगा-3 वसा अम्ल की अल्पता या कमी से ग्रसित रहते हैं।
ओमेगा-3 वसा अम्ल नाड़ी कोशिकाओं को स्वस्थ और सक्रिय रखते हैं। यह नाड़ी कोशिकाओं की झिल्लियों पर स्थित अभिग्राहकों को सीरोटोनिन नामक नाड़ीसंदेश वाहकों के प्रति संवेदनशील बनाते हैं जो मस्तिष्क की मनोदशा और मुद्रा अति प्रसन्न रखते हैं। ये हमारे मन को शांत रखते है। ये हमें चुस्त रखते हैं, किसी भी काम में आलस्य नहीं आता तथा क्रोध कोसों दूर रहता है। इनके सेवन से मन और शरीर में एक दैविक शक्ति और ऊर्जा का प्रवाह होता है। इस तरह सीरोटोनिन हमें प्रसन्नता व खुशी प्रदान करते हैं अतः यह फील गुड रसायन कहलाता है।
ई.पी.ए. और डी.एच.ए. कोशिकीय संकेतन प्रणाली में सहायक
ऊपर आपने देखा कि डी.एच.ए. कोशिकाओं की झिल्लियों को किस प्रकार विशेष गुण प्रदान करते हैं। ये झिल्लियां ही कोशिका में विभिन्न तत्वों की आवाजाही तथा नाड़ी संदेश अभिग्रहण को नियंत्रित करती हैं और इस प्रकार विभिन्न कोशिकाएं आपस में संपर्क व समन्वय रखती हैं। यह डी.एच.ए. ही कोशिकीय संकेतन प्रणाली का प्रबंधन करता है। सैंकड़ों विशिष्ट अणु कोशिकीय संकेतन प्रणाली के कार्य को नियति देते हैं। ये अणु कोशिका के भीतर की विभिन्न संरचनाओं के बीच तथा विभिन्न कोशिकाओं और ऊतकों के बीच संकेतों का आदान-प्रदान करते हैं। कुछ लिप्यंतरण अणु कोशिका और जीन के बीच संवाद सुनिश्चित करते हैं।


कुछ अणु विशेष कोशिकीय कार्यों जैसे माइटोकोंड्रिया द्वारा ऊर्जा के उत्पादन, जीन को सक्रिय या शांत करना, विशेष प्रोटीन्स का निर्माण, ऑयन सरिताओं का नियंत्रण और शोथ-कारी मध्यस्त तत्वों के नियोजन को नियति देते हैं। ऊर्जा के उत्पादन में सहायक कई किण्वक जैसे एडीनाइल साइक्लेज व प्रोटीन काइनेज-ए डी.एच.ए. द्वारा नियंत्रित होते हैं। डी.एच.ए. शोथ-कारक मध्यस्त तत्वों जैसे प्रोस्टाग्लेन्डिन ई2, थ्रोम्बोक्सेन्स और ल्यूकोट्राइन्स के निर्माण को अवरुद्ध करते हैं तथा शोथहर तत्वों जैसे लाइपोक्सिन, रिज़ोल्विन और मस्तिष्क के रक्षक न्यूरोप्रोटीन्स का निर्माण बढ़ाते हैं।


डी.एच.ए. कोशिकीय किण्वक सोडियम+/पोटेशियम एटीपे को भी नियंत्रित करते हैं जो ए.टी.पी. से ऊर्जा उत्पन्न  कर सोडियम पंप  को  संचालित  करते हैं, यह सोडियम  पंप  कोशिकाओं  में सोडियम+/पोटेशियम+ आयन के आवागमन को नियंत्रित करता है और मस्तिष्क की कोशिकाओं की सुरक्षा करता है। डी.एच.ए. का एक और लाभ यह भी है कि यह मस्तिष्क में फोस्फेटाइडिलसेरिन (पीएस) के स्तर को नियंत्रित करता है। फोस्फेटाइडिलसेरिन (पीएस) भी कोशिकाओं के रक्षक हैं।
डी.एच.ए. कोशिकाओं में केल्शियम की तरंगों या सरिताओं का नियोजन करते हैं। ये तरंगे कोशिकाओं के विभिन्न कार्य जैसे नाड़ी संदेश अभिग्राहकों के निर्माण, माइट्रोकोंड्रिया के कार्य, जीन्स को सक्रिय या शांत करना, मुक्त कणों से सुरक्षा और विकासशील मस्तिष्क में नाड़ियों को परिपक्व करती हैं।
डी.एच.ए. और ई.पी.ए. परऑक्सीजोम प्रोलीफरेटर-एक्टिवेटेड रिसेप्टर या पीपार PPAR नामक कोशिका संकेतन प्रणाली को भी नियंत्रित करते हैं। यह प्रणाली शोथकारी साइटोकाइन का निर्माण अवरुद्ध करती है, जिससे मधुमेह, एथ्रोस्क्लीरोसिस, ऑटो-इम्यून रोग, एल्झीमर, पार्किनसन्स आदि रोगों से शरीर को क्षति कम होती है।


सफलता के रहस्य द्वितीय भाग
कोलीन “स्मरण-शक्ति की बुनियाद”
मस्तिष्क में विद्यमान एसीटाइलकोलीन स्मरणशक्ति के लिए मुख्य नाड़ी संदेश वाहक रसायन है। मस्तिष्क में इसकी कमी स्मरणशक्ति को सीधा प्रभावित करती है। कोलीन ही शरीर में ऐसीटाइलकोलीन का निर्माण करता है। यह नाड़ी कोशिकाओं के बाह्य आवरण “माइलिन शीथ”का निर्माण भी करता है। एसीटाइलकोलीन के निर्माण के लिए विटामिन बी-1, बी-5, बी-12 और विटामिन सी भी आवश्यक होते हैं। कलेजी, अंडे, सूखे मेवे, ब्रोकोली, मुर्गा, सालमोन मछली, सोयाबीन आदि इसके प्रमुख स्रोत हैं।
कोलीन लेने से मस्तिष्क को बहुत लाभ मिलता है। ड्यूक विश्वविद्यालय के चिकित्सा कैंद्र में शोधकर्ताओं ने गर्भवती चुहियों को कोलीन खिलाया और पाया कि उनके शिशुओं का मस्तिष्क ज्यादा बड़ा, बुद्धिमान तथा विकसित था, उनकी बुद्धिमत्ता, स्मरणशक्ति और सीखने की क्षमता संपूर्ण जीवन काल में अच्छी रही। इससे यह निष्कर्ष निकलता है कि कोलीन स्मरणशक्ति और शैक्षणिक-क्षमता वृद्धि करता है और गर्भावस्था में इसके सेवन से शिशु के मस्तिष्क का विकास बहुत अच्छा होता है।
कोलीन को यदि पर्याप्त मात्रा में युवाओं को दिया जाये तो वह स्मरणशक्ति में असिमित वृद्धि करता है। फ्लोरेंस सेफोर्ड विश्वविद्यालय में 41 लोगों को 500 मि.ग्रा. कोलीन 5 सप्ताह तक दिया गया तो शोधकर्ताओं ने पाया कि उनकी बुद्धिमत्ता, विद्वता, शैक्षणिक प्रवीणता तथा स्मरणशक्ति में आश्चर्यजनक वृद्धि हुई है। यह भी देखा गया कि यदि कोलीन को अन्य स्मृति वर्धक तत्वों जैसे पाइरोग्लूटामेट के साथ लिया जाये तो कम मात्रा में ही भरपूर लाभ मिलता है।
कोलीन नाड़ी कोशिका, इनके बाहरी आवरण और नाड़ीसंदेश अभिग्राहकों के निर्माण और रख रखाव के लिए भी आवश्यक है।
मेसाचुसेट्स तकनीकी संस्थान के डॉ. रिचर्ड वर्टमेन ने कहा है कि एसीटाइलकोलीन का निर्माण बढ़ाने वाली दवायें जैसे पाइरेसिटेम आदि को कोलीन के साथ ही लेना चाहिये वर्ना हो सकता है कि मस्तिष्क का सारा कोलीन एसीटाइलकोलीन के निर्माण में खर्च हो जाये और इस कोलीन की कमी के कारण नाड़ी कोशिकाओं का निर्माण बाधित हो जाये।
फोसफेटाइडिल कोलीन या पी.सी., जो लेसीथिन में पाया जाता है, रक्त से मस्तिष्क को जाने वाली दुर्गम राह सहजता से पार कर मस्तिष्क में आसानी से प्रवेश कर जाता है। शुद्ध कोलीन में मछली जैसी गंध होती है पर कोलीन से भरपूर लेसिथिन गंधहीन होता है, इसलिए लोग लेसीथिन लेना अधिक पसंद करते हैं। लेसीथिन के दानें और सम्पुट दवा विक्रेता के पास मिल जाते हैं।

मात्रा
कोलीन क्लोराइड
500 मि.ग्रा. -2 ग्राम प्रति दिन
लेसीथिन
5-10 ग्राम लगभग 1 बड़ी चम्मच प्रति दिन
फोसफेटाइडिल कोलीन
1-2 ग्राम प्रति दिन
सीटीकोलीन
500 मि.ग्रा. -1 ग्राम प्रति दिन
सीटीकोलीन
एक और रसायन सीटीकोलीन होता है, जो शरीर में जा कर कोलीन में परिवर्तित हो जाता है। यह मस्तिष्क में डोपामीन और अन्य नाड़ी संदेश वाहक रसायनों की मात्रा बढ़ाता है। इसका प्रयोग सिर की चोट और मस्तिष्क-आघात के रोगियों के उपचार में भी किया जाता है क्योंकि यह मस्तिष्क की कोशिकाओं पर रक्त-अल्पता के दुष्प्रभाव नहीं होने देता है। यह स्मरणशक्ति और शैक्षणिक क्षमता भी बढ़ता है।
डी.एम.ए.ई. (डाइमिथाइलअमाइनोईथेनोल)
डी.एम.ए.ई. का अच्छा स्रोत सरडीन मछली है। यह भी रक्त वाहिकाओं तथा मस्तिष्क के बीच की बाधाओं को सुगमता से पार कर मस्तिष्क में जल्दी से प्रवेश कर जाती है। मस्तिष्क में यह बुद्धिमत्ता और स्मृति बढ़ाती है।
डी.एम.ए.ई. मस्तिष्क में एसीटाइलकोलीन का निर्माण बढ़ाती है, तनाव कम करती है, एकाग्रता व शैक्षणिक क्षमता बढ़ाती है, मनोदशा को उत्कृष्ट रखती हैऔर मस्तिष्क को स्फूर्तिमान, सतर्क तथा उत्तेजित रखती है।
स्मरणशक्ति बढ़ाने के लिए डी.एम.ए.ई. की मात्रा 100-300 मि.ग्रा. प्रति दिन है, इसे सुबह या दोपहर में ही लें शाम को नहीं लें। इसका असर आने में 2 से 3 सप्ताह लगते हैं। परंतु यह प्रतीक्षा बहुत अच्छा परिणाम देकर जाती है।
पाइरोग्लूटामेट और फोस्फेटाइडिलसेरीन
नाड़ीसंदेश-वाहकों की संचार-क्षमता सुचारू व सक्रिय अभिग्राहक-स्थलों पर निर्भर करती है। अभिग्राहक-स्थलों को भलीभांति सक्रिय रहने के लिए दो पोषक तत्व फोस्फेटाइडिलसेरिन और ओमेगा-3 फैट डी.एच.ए.नितांत आवश्यक हैं। पाइरोग्लूटामेट ऐसीटाइलकोलीन अभिग्राहक-स्थलों की संख्या और उनका अभिग्रहण बढ़ाते हैं जिससे मस्तिष्क की संदेश अभिग्रहण-क्षमता में वृद्धि होती है। इस तरह ये स्मृति, बुद्धिमत्ता और शैक्षणिक-प्रवीणता में वृद्धि करते हैं।
पाइरोग्लूटामेट मस्तिष्क का “सूचना एवं प्रसारणमंत्री”
पाइरोग्लूटामेट मुख्य अमाइनो-अम्ल है जो मस्तिष्क और स्पाइनल-द्रव्य में प्रचुरता से विद्यमान रहता है और स्मृति एवं मस्तिष्क के सभी क्रिया-कलापों में भारी सुधार लाता है। ये इतना ज्यादा असर दायक है कि इसके कई प्रतिरूपों से निर्मित औषधियां एल्ज़िमर्स रोग, जिसके मुख्य लक्षण शैक्षणिक दुर्बलता एवं स्मृति-दोष है, के उपचार में दी जाती हैं। इस परिवार की औषधियों जैसे पाइरेसिटेम आदि पर बहुत परीक्षण हुए हैं और शोधकर्ता इस निष्कर्ष पर पंहुचे हैं कि यह दुर्बल स्मृति वाले व्यक्तियों की ही नहीं बल्कि सामान्य व्यक्तियोंकी भी स्मृति, बुद्धिमत्ता और शैक्षणिक प्रवीणता में अभूतपूर्व सुधार आता है।
पाइरोग्लूटामेट के कार्य –
• एसीटाइलकोलीन के निर्माण मे सहायक हैं।
• ऐसीटाइलकोलीन के अभिग्राहक स्थलों की संख्या में वृद्धि करते हैं।
• मस्तिष्क के बांये और दांये गोलार्धों तथा मस्तिष्क के विभिन्न हिस्सों के बीच सम्पर्क, संवाद, सहयोग और समन्वय में वृद्धि करते हैं। और इस तरह यह स्मृति, बोधन शक्ति, शिक्षण-क्षमता और एकाग्रता बढ़ाते हैं यानी आपको बुद्धिमान और विद्वान बनाते हैं।
• पाइरोग्लूटामेट मछली, दूध, दही, मक्खन और सब्जियों में पाये जाते हैं।
फोस्फेटाइडिलसेरिन “स्मृति-अणु”
फोस्फेटाइडिलसेरिन जिसे “स्मृति-अणु”के नाम से भी जाना जाता है। यह सचमुच मस्तिष्क में उत्साह, स्फूर्ति और जोश भर देता है। यह फोस्फोलिपिड परिवार का सदस्य है और यकृत, रक्षा-प्रणाली, नाड़ियों तथा मस्तिष्क के स्वास्थ्य के लिए अति आवश्यक है।
इस पर बहुत शोध हुई है और शोधकर्ता इस निष्कर्ष पर पंहुचे हैं कि यह मस्तिष्क में प्रचुर मात्रा में होता है और स्मृति, मनोदशा, शैक्षणिक-क्षमता, तनाव-प्रबन्धन कौशल और एकाग्रता में वृद्धि करता है। यह मस्तिष्क की विभिन्न कोशिकाओं के बीच सम्पर्क, संवाद,समन्वय, संचारव सहयोग को सरल, सहज, स्निग्ध, सुचारु व सशक्तबनाता है क्योंकि यह नाड़ी कोशिका के बाह्य आवरण, एसीटाइलकोलीन के अभिग्राहक स्थलों के निर्माण का मुख्य “अणु” है।
वैसे तो यह थोड़ा बहुत हमारे शरीर में बनता रहता है, परंतु यह मात्रा पर्याप्त नहीं होती है । हमारे भरपूर कलेजी युक्त मांसाहारी भोजन खाने वालों को यह 50 मि.ली. तक प्रतिदिन मिल जाता है जबकि भोजन में भी यह बहुत कम होता है। आम शाकाहारी आहार से यह मात्र 10 मि.ली. प्रतिदिन ही मिल पाता है। हां नियमित इसकी प्रतिदिन की खुराक 100-300 मि.ग्रा. है ।
शोधकर्ताओं ने पाया कि यदि आहार में डी.एच.ए. अत्यंत कम दिया जाये तो मस्तिष्क के हिप्पोकेंपस, जो स्मरणशक्ति का केंद्र है, में फोस्फेटाइडिलसेरिन का स्तर बहुत कम हो जाता है।तथा जब डिमेंशिया के रोगी को फोस्फेटाइडिलसेरिन दी जाती है तो उसकी स्मृति और बोधन क्षमता में अपार वृद्धि होती है। इसका यह मतलब हुआ कि डी.एच.ए. हिप्पोकेंपस मेंफोस्फेटाइडिलसेरिन का स्तर बढ़ाता है और फोस्फेटाइडिलसेरिन स्मृति और बोधन क्षमता में भारी सुधार करता है।
जिंको बिलोबा रक्तसंचारवर्धक वस्मृतिवर्धक
जिंको बिलोबा पूर्वी देशों में हजारों वर्षों से स्मृतिवर्धक औषधि के रूप में प्रयोग में आती रही है। चीन के प्राचीन ग्रंथों के अनुसार 2800 बी.सी. से जिंको को औषधि के रूप में काम में लिया जा रहा है। जिंको मस्तिष्क को एकाग्रता देता है, ऊर्जावान बनाता है और मनोदशा प्रसन्न रखता है। जिंकोस्मृति-विकार, अवसाद, रक्तसंचार-दोष, दुर्बल विचारशीलता आदि में लाभप्रद है। इसमें दो मुख्य तत्व फ्लेविनोइड्स और टरपेन लेक्टोन होते हैं।
जिंको बिलोबा एक बलवान प्रति-ऑक्सीकारक है, जो विटामिन ई और अन्य प्रति-ऑक्सीकारकों के साथ मिल कर मस्तिष्क की मुक्तकणों से रक्षा करता है।
जिंको नाड़ी-संदेशवाहकों का निर्माण करता है, एसीटाइलकोलीन के अभिग्राहकों को स्वस्थ रखने में सक्रिय भूमिका निभाता है। जिंको का मुख्य कार्य मस्तिष्क की रक्त वाहिकाओं का विस्तारण और बिंबाणु प्रेरक घटक(एक पदार्थ जो रक्त को गाढ़ा करता है) की कार्य प्रणाली में अवरोध पैदा करना है। इसका सीधा मतलब है कि यह मस्तिष्क को ऑक्सीजन और अन्य पोषक तत्वों की आपूर्ति बढ़ाता है।
नीदरलैंड के लिम्बर्ग विश्वविद्यालय के क्लेजनेन और पॉल निप्सचाइल्ड ने अपने प्रयोगों से सिद्ध किया है कि जिंको रक्त-संचार दोष के रोगियों की स्मृति, एकाग्रता, मनोदशा और ऊर्जा में वृद्धि करता है।
जिंको के सामान्यतः 40, 60 और 80 मि.ग्रा. के सम्पुट उपलब्ध हैं। सामान्यत: इसकी मात्रा 120-180 मि.ग्रा. प्रति दिन है यानी 60 मि.ग्रा. के 1 या 2 सम्पुट सुबह और शाम को लेना है। इसका असर आने में एक या दो महीने लग जाते हैं। यदि दो महीने बाद भी फायदा न हो तो मात्रा 240 मि.ग्रा. प्रति दिन कर देना चाहिए। चूंकि जिंको रक्त को पतला करता है अतः रक्त को पतला करने की दवाएं जैसे कॉमाडिन, हिपेरिन या एस्पिरिन लेने वाले सतर्कता बरतें।
एसीटाइल-एल-कार्निटीन मस्तिष्क का उत्कृष्ट ईंधन
अमाइनो एसिड एसीटाइल-एल-कार्निटीन मस्तिष्क का उत्कृष्ट ईंधन है। इसका एसीटाइल घटक एसीटाइलकोलीन (मुख्य नाड़ी संदेशवाहक) का निर्माण करता है। एसीटाइल-एल-कार्निटीन एक बलवान प्रति-ऑक्सीकारक है और मस्तिष्क को मुक्त-कणों से सुरक्षा प्रदान करता है और संपूर्ण नाड़ीतंत्र को स्वस्थ व युवा रखता है।
यह नई कोशिकाओं के निर्माण में सहायक है और मस्तिष्क के दोनों गोलार्धों के बीच संपर्क, संवाद और सहयोग बनाये रखता है। फोस्फेटाइडिलसेरीन के साथ लेने पर यह ज्यादा लाभप्रद है। इसकी 250-1500 मि.ग्रा. की खुराक प्रतिदिन भोजन से 1 घंटा पूर्व या 1 घंटा बाद लेना चाहिये। यह बहुत मंहगा हैतथा इसेमधुमेह, यकृत रोग या वृक्क रोग के मरीज को नहीं देना चाहिये।
सदाबहार पौधे में पाया जाने वाला रहस्यमय पूरक तत्व विनप्रोसेटीन
विनप्रोसेटीन सदाबहार के पौधों में पाये जाने वाली ऐसी औषधि है जो हमारी संज्ञानात्मकता या बोधन-क्षमता और स्मृति बढ़ाती है। यह मस्तिष्क का रक्त प्रवाह बढ़ाती है यानी मस्तिष्क को ऑक्सीजन की आपूर्ति बढ़ाती है। इसकी 5 और 10 मिली. ग्राम. की टिकिया मिलती हैं। इसकी 5 मिली. ग्राम की टिकिया सुबह शाम को दी जाती है। बाद में आवश्कतानुसार मात्रा बढ़ाई जा सकती है।
ब्राह्मी या बकोपा मोनिएरा
ब्राह्मी का पौधा हिमालय की तराई में हरिद्वार से लेकर बद्रीनारायण के मार्ग में अधिक मात्रा में पाया जाता है। ब्राह्मी पौधे का तना जमीन पर फैलता जाता है। जिसकी गांठों से जड़, पत्तियां, फूल और बाद में फल भी लगते हैं। इसकी पत्तियां स्वाद में कड़वी और काले चिन्हों से मिली हुई होती है। ब्राह्मी के फूल छोटे, सफेद, नीले और गुलाबी रंग के होते हैं। ब्राह्मी के फलों का आकार गोल लम्बाई लिए हुए तथा आगे से नुकीलेदार होता है जिसमें से पीले और छोटे बीज निकलते हैं। ब्राह्मी की जड़ें छोटी और धागे की तरह पतली होती है। इसमें गर्मी के मौसम में फूल लगते हैं।
ब्राह्मी के गुण-दोष एवं प्रभाव
आयुर्वेदिक ग्रंथ ‘भाव प्रकाश निघन्टू’ के अनुसार ब्राह्मी शीतल, हल्की, सारक, मेधाकारक (बुध्दि वर्धक) कसैली, कड़वी, आयुवर्धक रसायन, स्वर एवं कंठ को उत्तम करने वाली, स्मरण शक्ति बढ़ाने वाली, कुष्ठ, पांडु, प्रमेह, रक्त विकार, खाँसी, विष, सूजन और ज्वर को हरने वाली होती है।
ब्राह्मी विशेष रूप से मस्तिष्क संबंधी रोगों में विशेष रूप से फायदेमंद पाई गई है। ब्राह्मी की मुख्य क्रिया मस्तिष्क एवं मज्जा तंतुओं पर होती है। यह मस्तिष्क को शान्ति और मज्जा को ताक़त देता है। इसलिए ब्राह्मी का प्रयोग मस्तिष्क एवं मज्जा तंतुओं के रोगों में करते हैं। अधिक मानसिक परिश्रम करने वाले लोगों को यह बूटी विशेष लाभकारी पाई गई है। मस्तिष्क की थकान एवं उन्माद में यह विशेष लाभ दर्शाती है।
ब्राह्मी घृत आयुर्वेद की एक दवा है जो सभी प्रमुख दवा कम्पनियों की मिलती है। रस रत्नाकर नामक आयुर्वेदिक ग्रंथ में लिखा है कि ब्राह्मी घृत को प्रतिदिन एक से दो तोला दूध में डालकर पीने से मनुष्य का कंठ सुधरता है और स्मरणशक्ति प्रबल हो जाती है। कठिन-से-कठिन शास्त्र भी एक बार पढ़ने से याद हो जाते हैं।
अन्य आयुर्वेद औषधियां
स्मरणशक्ति एवं बुद्धि बढ़ाने वाली कुछ अन्य जड़ी-बूटियाँ जैसे शंखपुष्पी, बच, शतावरी, ज्योतिष्मती, अश्वगंध,आंवला, शहद आदि और खाद्य-पदार्थों में अनार, बथुवा, जौ , लहसुन, सैंधा नमक, गाय का दूध और घी, मालकांगनी, बैंगन आदि बुद्धि-वर्धक हैं।
' योग चिंतामणि ' के अनुसार--- गिलोय, ओंगा, वायविडंग, शंखपुष्पी, ब्राह्मी, बच, सोंठ और शतावर इन सबको बराबर लेकर कूट-छानकर चूर्ण बनावें और प्रात: काल चार माशे मिश्री के साथ चाटें , तो तीन हजार श्लोक कंठस्थ करने की शक्ति प्राप्त हो जाती है। निघंटु के अनुसार--- बच का एक माशा चूर्ण जल, दूध या घृत के साथ एक मास सेवन करने से मनुष्य पंडित और बुद्धिमान बन जाता है। चरक के अनुसार शंखपुष्पि विशेष रूप से बुद्धि-वर्धक है। साथ ही ' गायत्री मन्त्र ' का जप करने से भी बुद्धि में निखार आता है।
ग्लूटामीन एक और मस्तिष्क का ईंधन
ग्लूटामीन एक अमाइनो एसिड है जो मस्तिष्क के लिए सीधा ईंधन का कार्य करता है। ग्लूटामीन मस्तिष्क को अधिक सक्रिय बनाता है और किसी भी दुर्व्यसन से दूर रखता है।यह गाबा और ग्लूटामेट नामक नाड़ी संदेशवाहक बनने में सहायक है और स्मृतिवर्धक है। इसे 2-5 ग्राम प्रति दिन भोजन से 1 घंटा पूर्व या 1 घंटा बाद लेना चाहिये।
विटामिनबी ग्रुप “मस्तिष्क के घनिष्ट मित्र”
मस्तिष्क के लिए विटामिन बी अत्यंत आवश्यक हैं। यह मस्तिष्क में ऑक्सीजन की आपूर्ति बढ़ाते हैं और हानिकारक मुक्त-कणों से मस्तिष्क की रक्षा करते हैं।
विटामिन बी कोशिकाओं को लिए ऊर्जा हेतु ग्लूकोज बनाते हैं, हमारी संज्ञानात्मकता या बोधन क्षमता बढ़ाते हैं और नाड़ी संदेश वाहक बनाने में सहायता देते हैं। संक्षेप में कहें तो विटामिन बी मस्तिष्क के सबसे अच्छे मित्र हैं। आइये नीचे देखते हैं ये किस प्रकार मित्रता निभाते हैं।
विटामिन बी1 (थायमिन)
थायमिन सम्पूर्ण नाड़ी तंन्त्र को स्वस्थ रखते हैं और मस्तिष्क को उर्जा देने हेतु कार्बोहाइड्रेट से ग्लूकोज का निर्माण करते हैं। इनके स्रोत दूध, गैंहूँ का चोकर, चावल, दालें, मुर्गा, मछली, कलेजी आदि हैं।
विटामिन बी3 (नायसिन)
स्मरणशक्ति बढ़ाता है। एक शोध में विभिन्न आयु केलोगों को 141 मि.ग्रा. प्रति दिन नायसिन दिया गया। सभी उम्र के लोगों की स्मरण शक्ति 10-40 % बढ़ी।
विटामिन बी5 पेन्टोथेनिक एसिड
मानसिक चेतना और स्मृतिवर्धक है। यह एसीटाइलकोलीन के निर्माण में भी सहायक हैं। आप रोजाना 250-500 मि.ग्रा. विटामिन बी5 का सेवन करके स्मरण शक्ति को प्रखर बना सकते हैं।
विटामिन बी6 (पाइरीडोक्सीन)
नाड़ी संदेशवाहक बनने में सहायता देते हैं।यह अमाइनो एसिड्स को सीरोटोनिन नामक नाड़ी संदेशवाहक में परिवर्तित कर देते हैं।सीरोटोनिन की कमी से अवसाद और अन्य मानसिक रोग होते हैं। एक शोध में यह पाया गया कि डिप्रेशन के 20% रोगी पाइरीडोक्सीन की कमी से ग्रसित थे। स्मरणशक्ति को तराशने के लिए 20-100 मिली. ग्रा. की मात्रा लेना चाहिये।
विटामिन बी12 (सायनाकोबाल्मिन)
विटामिन बी12 बोधन क्षमता, नाड़ी संदेश वाहकों के निर्माण, लाल रक्त-कणों के निर्माण, वसा अम्लों के चयापचय, नाड़ियों के बाहरी विद्युतरोधी आवरण माइलिन के निर्माण तथा नाड़ी कोशिकाओं के स्वस्थ व सक्रिय रहने के लिए आवश्यक है।
इसकी कमी वृद्धावस्था में होने वाली मानसिक दुर्बलता, भ्रम और असमंजसता का मुख्य कारण है। सामान्यत: इसकी मात्रा 10-100 माइक्रोग्राम प्रतिदिन पर्याप्त मात्रा है। वृद्धावस्था और विभिन्न रोगों में ज्यादा मात्रा यानी 1000 माइक्रोग्राम प्रतिदिन दी जाती है।
फोलिक एसिड
भी मस्तिष्क को ऑक्सीजन की आपूर्ति बढ़ाता है। इसकी प्रतिदिन की मात्रा 400 माइक्रोग्राम है।
मस्तिष्क और स्वास्थ्य को क्षतिग्रस्थ करने वाले खाद्य पदार्थ
आज हम आपको यह भी बता देते हैं कि कुछ खाद्य पदार्थ हमारे मस्तिष्क और शरीर दोनों के लिए ही बहुत हानिकारक हैं, हालांकि ये देखने में बड़े लुभावने, रंग-बिरंगे तथा स्वाद में बहुत लजीज़ होते हैं। पर ये आपको असफलता की गहरी खाई में ले जायेंगे। इनसे आपको परहेज करना ही होगा । आज के बाद आप इन हानिकारक खाद्य पदार्थों के सेवन की कल्पना भी नहीं करेंगे।
शराब और अन्य नशीले पदार्थ मस्तिष्क की कोशिकाओं को क्षतिग्रस्त करते हैं। उच्च “रक्त-शर्करा सूचकांक” वाले खाद्य पदार्थ जैसे मैदा से बनी डबल रोटी, पाव, बन्स, बर्गर, पित्ज्ज़ा, पास्ता, पेटीज़, केक, पेस्ट्री, कुकीज़, ज्यादा मीठे खाद्य पदार्थ आदि के सेवन से रक्त-शर्करा के स्तर में भारी उतार-चढ़ाव होता है, जिससे मस्तिष्क शिथिल और चिढ़चिढ़ा हो जाता है। रक्त वाहिकाओं में खून के थक्के बनाने वाले रिफाइंड तेल से बने जंक फूड, बर्गर,कचौरियां, समोसे, चाट आदि का सेवन भी मस्तिष्क के रक्त संचार को कम करते हैं और हानिकारक है। निम्न लिखित हानिकारक खाद्य पदार्थों से पूर्ण परहेज रखें।
ट्रांस फेट व हाइड्रोजिनेटेड फैट (वनस्पति घी या देसी भाषा में डालडा)
मदिरा
कृत्रिम रंग कृत्रिम शर्करा जैसे सेक्रीन, एस्पार्टेम (शुगर फ्री) इत्यादि
कार्बोनेटेड पेय पदार्थ
ज्यादा मीठे पेय पदार्थ
मैदा से बने बेकरी उत्पाद
धूम्रपान, जर्दायुक्त गुटका आदि
निचोड़
मस्तिष्क में होने वाली समस्त चयापचय क्रियाओं में वृद्धि, बुद्धि तथा स्मृति में अविश्वसनीय सुधार लाने के लिए हमने आपके आहार में थोड़ा परिवर्तन किया है, कुछ पोषक तत्व व औषधियां लेने की सलाह देर हैं ताकि आपके अध्ययन, आपके परिश्रम का आपको पूरा फल मिले, आपको सभी परीक्षाओं में आपके अन्य सहपाठियों से ज्यादा अंक प्राप्त हों, आपको सर्वोच्च स्तर (टॉप रैंक) प्राप्त हो, आप हमेशा सबसे आगे रहें और आपको मनचाहे कॉलेज में प्रवेश मिले। आपके लिए बनाये गये कार्यक्रम का निचोड़ इस प्रकार है।
1- ओमेगा-3 एक “सात सितारा पोषक तत्व” है। इसके लिए आप रोज 30 ग्राम अलसी का सेवन करें। पहले तो रोज अलसी को छोटे कॉफी ग्राइंडर में सूखा पीसें। पिसी अलसी को दूध या दही में मिला कर लें। इसे आटे में मिला कर रोटियां बनवा सकते हैं। इसे सलाद, उपमा, पोहे, सब्जी आदि फर भी डाल कर ले सकते हैं। इसे अंकुरित भी कर सकते हैं। आजकल “फ्लेक्सओमेगा” नाम से आधुनिक तकनीक द्वारा विशेष तौर पर विद्यार्थियों के लिए “जैविक” अलसी से तैयार किया रेडी टू ईट प्रोडक्ट बाजार में उपलब्ध है। इसका प्रयोग विद्यार्थियों के लिए बहुत सुविधाजनक है। शीघ्र ही अलसी के अन्य उत्पाद जैसे बिस्कुट, ब्रेड आदि बाजार और आपके कोचिंग इंस्टिट्यूट की केन्टीन में भी उपलब्ध होंगे। ओमेगा-3 के लिए मछलीहारी लोग सप्ताह में 3-4 बार सालमोन, मेकरेल, हेरिंग, हेलीबुट, सरडीन आदि मछलियां खा सकते हैं। याद रहे सभी मछलियों में ओमेगा-3 नहीं होता है।मछली के संपुट नहीं खायें तो ही अच्छा है।
2- पूरे वर्ष नियमित रूप से अच्छी मल्टीविटामिन की गोली खायें।
3- उपरोक्त वर्णित स्मृति व बुद्धि वर्धक पौषक तत्वों में से 2 या 3 तत्वों को चुन कर सेवन करें। कोलीन अति आवश्यक है। अच्छा यही होगा कि आप अपने चिकित्सक से परामर्श लें और औषधि-प्रपत्र प्राप्त करके किसी समीप के औषधि विक्रेता से अपनी दवाएं खरीदें।
शब्दकोष
मैंने उपरोक्त लेख हमारी जननी हमारी मातृभाषा हिन्दी में लिखा है। मैंने पूरी कोशिश की हैं कि इस लेख में पराई और विदेशी अंग्रेजी भाषा का प्रयोग कम से कम करूं। यह पराई भाषा नागिन के समान निरन्तर हमारी हिन्दी भाषा को डस रही है और हमारी युवा पीड़ी हिन्दी भाषा को भूलती जा रही है और हिंदी भाषा में ज्यादा से ज्यादा अंग्रेजी शब्दों की घुसपेठ जारी है। हमें इस सांस्कृतिक आतंकवाद का उन्मूलन करना ही होगा। आओ प्रण करें कि आज से हम हिंदी का ज्यादा से ज्यादा प्रयोग करेंगे। फिर भी आपकी सुविधा के लिए मैं नीचे शब्दकोष संलग्न कर रहा हूँ ताकि आप लेख को पूरी तरह समझ सकें।



No comments: