Saturday, October 8, 2011

Gazal Kamsin


ग़ज़ल

बताऐं आप अब कैसा हुआ है
बड़ी मुश्किल से ये मतला हुआ है
मनाॐ तो उसे कैसे मनाॐ
वो ज़ालिम ख़ुद से ही रूठा हुआ है
अभी कंकर इधर मत फेंकियेगा
ये पानी झील का सोया हुआ है
सुनाऐं अब किसे रुदाद अपनी
ज़माना भर यहाँ बहरा हुआ है
नहीं हो जिस के मन पे मौत का डर
कहो! दुनिया  में कौन ऐसा हुआ है
हुआ क्या-क्या नहीं ये पूछ मुझ से
मगर मत पूछ  कमसिन क्या हुआ है
बड़ी बातें बनाती है बड़ों-सी
अरी कमसिन तुझे ये क्या हुआ है

No comments: