Sunday, July 10, 2011

Flaxseed Chutenies

नारंगी चटनी अलसी की

सामग्री –
1. कटा हुआ पपीता एक कटोरी
2. कटा हुआ गाजर एक कटोरी
3. कटा हुआ टमाटर एक कटोरी
4. ताजा पिसी अलसी दो चम्मच
5. लाल मिर्च पाउडर एक चम्मच
6. जीरा एक चौथाई चम्मच
7. आधे कटे हुए नींबू का रस
8. नमक स्वादानुसार


बनाने की विधि-


उपर्युक्त सभी सामग्री को मिक्सी के चटनी जार में डाल कर अच्छी तरह पिसे लें और नारंगी पौष्टिक चटनी का आनंद लें।


हरी चटनी अलसी की

सामग्री-


1. कटा हुआ हरा धनियां एक कटोरी 2. कटी हुई हरी मिर्च 4-5
3. ताजा पिसी अलसी 3 चम्मच
4. कटा हुआ प्याज एक कटोरी
5. कटा हुआ टमाटर एक कटोरी
6. दही आधा कटोरी
7. जीरा एक चौथाई चम्मच
8. नमक स्वादानुसार


बनाने की विधि-


उपर्युक्त सभी सामग्री को मिक्सी के चटनी जार में डाल कर अच्छी तरह पिसे लें और हरी पौष्टिक चटनी का आनंद लें।






सफेद चटनी अलसी की



सामग्री –
1. एक मध्यम आकार का कटा हुआ प्याज
2. कटी हुई आधी मूली
3. दही 3 चम्मच

4. ताजा पिसी अलसी एक चम्मच
5. एक हरी मिर्च6. जीरा एक चौथाई चम्मच
7. लहसुन चार कलियां
8. चाट मसाला एक चम्मच
9. नमक स्वादानुसार



बनाने की विधि –

 

उपर्युक्त सभी सामग्री को मिक्सी के चटनी जार में डाल कर अच्छी तरह पिसे लें और सफेद पौष्टिक चटनी का आनंद लें।




बैंगनी चटनी


सामग्रीः-


1. कटा हुआ चुकन्दर एक कटोरी 2. कटा हुआ धनियां आधा कटोरी 3. कटी हुई हरी मिर्च चौथाई कटोरी 4. ताजा पिसी अलसी दो चम्मच 5. कटा हुआ अदरक एक छोटी गांठ 6. जीरा एक चौथाई चम्मच 7. आधे कटे हुए नींबू का रस 8. चाट मसाला एक चम्मच 9. नमक स्वादानुसार




बनाने की विधिः-


उपर्युक्त सभी सामग्री को मिक्सी के चटनी जार में डाल कर अच्छी तरह पीस लें और बैंगनी पौष्टिक चटनी का आनंद लें।


अलसी के सेव


सामग्रीः–


1. एक कटोरी बेसन 2. आधा कटोरी पिसी अलसी 3. एक चम्मच लाल या सफेद मिर्च का पाउडर 4. चार लोंग 5. आधा चम्मच अजवाइन 6. आधा चम्मच काला नमक 7. सैंधा नमक स्वादानुसार 8. एक चौथाई चम्मच हींग 9. तलने के लिए तिल या सरसों का तेल।


विधिः-


पहले लौंग व अजवाइन को मिक्सी के ड्राई ग्राइन्डर में बारीक पीस लें। फिर बेसन, अलसी का पाउडर और सारे मसाले मिला कर आटे की तरह पानी से गूंध लें। सेव बनाने की मशीन में इस मिश्रण को भरकर मशीन का ढ़क्कन बन्द कर दे। कढ़ाही में तेल डालकर तेज आंच पर गर्म होने दे। तेल गर्म होने पर कढ़ाही के ऊपर सावधानी पूर्वक मशीन को पकड़ें और हेन्डल घुमाकर सेव बनाएं। थोड़ी देर बाद सेवों को झारी से पलट दें। जब सेव अच्छी तरह तल जाये तो झारी से सेव निकालकर अखबार पर रख दें। यदि तलते समय कढ़ही में झाग आये तो तेल में नमक के पानी के छींटे दे दें। इस तरह आपके स्वास्थ्यप्रद ओमेगा-3 से भरपूर सेव तैयार है जिन्हें आप चार-पांच दिन तक आराम से खा सकते है।


बेसन के गट्टे


सामग्रीः–


1. एक कटोरी बेसन 2. आधा कटोरी पिसी अलसी 3. आधा चम्मच सौंफ 4. एक चौथाई चम्मच काला नमक 5. हींग चुटकी भर 6. हल्दी एक चौथाई चम्मच 7. लाल मिर्च पाउडर आधा चम्मच 8. खाने का सोड़ा एक चौथाई चम्मच 9. इलाइची दो। 10. लोंग दो


बनाने की विधिः-


सबसे पहले सौंफ, इलाइची और लौंग को मिक्सी के ड्राई ग्राइन्डर में बारीक पीस लें। अब सारी सामग्री को मिक्स करके पानी से गाढ़ा-गाढ़ा गूंध लें। दोनों हथेलियों से बेसन की लोई को गोल-गोल बेलकर गट्टे बना लेवें। फिर पानी उबालने रख दे। जब पानी में उबाल आ जाये तब बेसन के गट्टे उबलते पानी में डाल दे। लगभग 10 मिनट बाद गट्टे पानी में ऊपर आ जायेंगे तब गैस बंद कर दे गट्टों को अलग बर्तन में निकाल ले। बचे हुए पानी को तो गट्टे का शोरबा बनाने के लिये इस्तेमाल करें।


अलसी के बिजोरे


सामग्रीः–


1. उड़द की दाल 300 ग्राम 2. सफेद पेठा 1 किग्रा. 3. तिल्ली 500 ग्राम 4. अलसी 500 ग्राम 5. मिर्च और नमक स्वादानुसार 6. घी दो बड़ी चम्मच।


बनाने की विधिः–


उड़द की दाल को रात सोते समय भिगो कर रख दें। अगले दिन सुबह दाल को धोकर मिक्सी में पिस लें। पेठे को कद्दू कस से कस लें। बीज अलग नहीं करे। अब सभी सामग्री को अच्छी तरह मिला लें और हाथों से बेल कर छोटी-छोटी टिकिया (लगभग दो इन्च बड़ी) बना लें। और तेज धूप में सूखने के लिये रख दें। 8-10 दिन तक अच्छी तरह रोज सुखायें। लंच या डिनर में पापड़, भरी मिर्च आदि के साथ हल्का सा तल कर परोसे। ये खाने में बहुत ही स्वादिष्ट लगेगें।



लाल चटनी अलसी की



सामग्री


1. गीली लाल मिर्च 6-72. लहसुन की कलियां 10
3. ताजा पिसी अलसी 3 चम्मच
4. एक मध्यम आकार का टमाटर5. जीरा एक चौथाई चम्मच
6. हींग चुटकी भर
7. नमक स्वादानुसार

बनाने की विधि

उपर्युक्त सभी सामग्री को मिक्सी के चटनी जार में डाल कर अच्छी तरह पिसे लें और लाल पौष्टिक चटनी का आनंद लें। यदि गीली लाल मिर्च उपलब्ध हो तो पिसी लाल मिर्च प्रयोग कर सकते हैं।

1 comment:

सुशील बाकलीवाल said...

सफेद चटनी में आपने दही और मूली का प्रयोग एक साथ दिखाया है जबकि ये एक साथ खाना शायद विरुद्ध आहार की श्रेणी में आ जाते हैं .